पुरानी पेंशन योजना और नई पेंशन योजना में अंतर देख, कर्मचारियों के उड़े होश – Diffrence Between OPS and NPS

Diffrence Between OPS And NPS: सरकारी कर्मचारियों और सरकार के बीच पुरानी पेंशन योजना और नई पेंशन योजना को लेकर चर्चाएं काफी तेज हो चुकी है कर्मचारियों का कहना है कि पुरानी पेंशन योजना को लागू किया जाए और नई पेंशन योजना को समाप्त किया जाए, हमें यह जानना जरूरी है कि पुरानी पेंशन योजना और नई पेंशन योजना में क्या अंतर है क्यों पुरानी पेंशन योजना की इतनी अधिक मांग कर्मचारियों के बीच हो रही है। आज हम इस पोस्ट में नई पेंशन योजना और पुरानी पेंशन योजना के बीच अंतर ( Purani Pension Yojna ( OPS ) Aur New Pension Yojna ( NPS ) Me Anter ) को लेकर बात करेंगे।

आप सभी की जानकारी के लिए बता दें कि कुछ राज्य ऐसे हैं जहां पर पुरानी पेंशन योजना को लागू कर दिया गया है परंतु कुछ राज्य ऐसे हैं जो पुरानी पेंशन योजना को लागू करने की मांग कर रहे हैं आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड और पंजाब और हिमाचल प्रदेश राज्य में पुरानी पेंशन योजना को लागू कर दिया गया है।

पुरानी पेंशन योजना और नई पेंशन योजना में अंतर देख, कर्मचारियों के उड़े होश - Diffrence Between OPS and NPS - The Refined Post Team

क्या है पुरानी पेंशन योजना?

जब कोई कर्मचारी सेवानिवृत्त हो जाते हैं तब उन्हें पुरानी पेंशन योजना का लाभ दिया जाता है, इस योजना का लाभ वर्ष 2004 से पहले कर्मचारियों के सेवानिवृत्त हो जाने के बाद दी जाती है थी इसमें कर्मचारियों को परमिशन उतना दिया जाता था जितना कर्मचारी के अंतिम वर्ष के वेतन की आधा होता था अगर कर्मचारी अंतिम वर्ष में ₹100000 वेतन प्राप्त करता है तो उसे ₹50000 पुरानी पेंशन योजना के तहत प्रत्येक महीने पेंशन मिलता है। सरकार ने योजना को बंद कर दिया और उसके बाद 1 अप्रैल 2004 से राष्ट्रीय पेंशन योजना या नई पेंशन योजना को लागू कर दिया।

पुरानी पेंशन योजना और नई पेंशन योजना में अंतर – Difference Between OPS And NPS

आज हम आपको कुछ विशेष आधार पर पुरानी पेंशन योजना और नई पेंशन योजना के बीच अंतर के बारे में बात करेंगे।

1. लाभ के आधार पर अंतरOPS And NPS

पुरानी पेंशन योजना के तहत कर्मचारी के सेवानिवृत्त होने के बाद कर्मचारी के अंतिम वेतन के आधी यानी 50% हिस्सा पेंशन के तौर पर और उस समय के महंगाई भत्ते को जोड़ कर दिया जाता है। एनपीएस में रिटायरमेंट के बाद कितनी पेंशन मिलेगी इसकी कोई निश्चित नहीं होती है। यह शेयर मार्केट के आधार पर निर्भर है जोकि निर्धारित नहीं है कि कितना पेंशन की राशि मिलेगी।

2. कटौती के आधार पर अंतर – OPS And NPS

पुरानी पेंशन योजना में किसी प्रकार की वेतन से कटौती नहीं की जाती है। लेकिन नई पेंशन योजना या राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत कर्मचारी के मूल वेतन और डीए ( DA ) करीब 10% की कटौती की जाती है। उदाहरण के तौर पर अगर कर्मचारी का वेतन ₹45000 है और महंगाई भत्ता ₹5000 है तो उसका कुल वेतन ₹50000 होगा जिसमें से 10% यानी ₹5000 प्रत्येक महीने नई पेंशन योजना ( New Pension Yojna ) के लिए देना होगा।

3. महंगाई भत्ता के आधार पर पुरानी पेंशन योजना नई पेंशन योजना में अंतर

पुरानी पेंशन योजना के तहत प्रत्येक 6 महीने पर डीएनए महंगाई भत्ता का लाभ दिया जाता है लेकिन नई पेंशन योजना में Da प्लान के आधार पर किया जाता है जो कि फिक्स नहीं होता है।

4. पात्रता के अवधि के आधार पर अंतर – OPS VS NPS

अगर कोई कर्मचारी 10 वर्ष तक नौकरी कर लेता है तो उसे पुरानी पेंशन योजना का लाभ दिया जाता है परंतु नई पेंशन योजना का लाभ 60 वर्ष की आयु और नौकरी पूरी करने के बाद ही मिलता है।

5. कौन-कौन लाभ ले सकता है पुरानी पेंशन योजना और नई पेंशन योजना का

पुरानी पेंशन योजना का लाभ केवल सरकारी कर्मचारी ही ले सकते हैं इसके अलावा नई पेंशन योजना या राष्ट्रीय पेंशन योजना का लाभ 18 से 65 वर्ष की आयु का कोई भी भारतीय नागरिक ले सकता है।

6. पेंशन राशि पर कर के आधार पर – Old Pension Yojna Aur New Pension Yojna

पुरानी पेंशन योजना की राशि पर किसी प्रकार का आयकर नहीं लगता है वही नई पेंशन योजना के कार्पस पर 60% मुक्त होता है और 40% पर कर लगता है।

Hello friends, my name is SHIVMANGAL. I am writer and founder of this blog , and share all information related to Technology, Education , Jobs, Government Schemes and business Ideas through this website.

Leave a Comment